दिन 7: सब्त के विश्राम में स्वस्तिक

शब्द स्वस्तिक  निम्न शब्दों से मिलकर बना है: सु  – अच्छा, भला, मंगल अस्ति  (अस्ति) – “यह है” स्वस्तिक लोगों या स्थानों के कल्याण की

Read More

दिन 6: शुभ शुक्रवार – यीशु की महाशिवरात्रि

महाशिवरात्रि (शिव की बड़ी रात) का उत्सव फाल्गुन (फरवरी/मार्च) के 13वें दिन की शाम को आरम्भ होता है, 14वें दिन में जारी रहता है। अन्य

Read More

दिन 5: होलिका के विश्वासघात के साथ, शैतान मारने के लिए फन उठता है

हिंदू वर्ष की अंतिम पूर्णिमा होली का प्रतीक है। यद्यपि बहुत से लोग इसे आनन्द के साथ मनाते हैं, तथापि केवल कुछ ही पहचानते हैं

Read More

दिन 4: सितारों से प्रकाश को ले लेने के लिए कल्कि की तरह सवारी करना

यीशु ने अपने देश को बन्धुवाई में जाने के लिए, 3रे-दिन एक शाप का उच्चारण किया। यीशु ने यह भी भविष्यद्वाणी की थी कि उसका

Read More

दिन 3: यीशु सूखाने वाले शाप को उच्चारित करते हैं

दुर्वासा शकुंतला को शाप देता हैं हम पुराणों में शापों (श्राप) के बारे में पढ़ते और सुनते हैं। शायद यह शाप सबसे अधिक प्रसिद्ध, प्राचीन

Read More

दिन 2: यीशु के द्वारा मंदिर का बन्द किया जाना… घातक प्रदर्शन की ओर ले चलता है

यीशु ने यरूशलेम में एक तरह से राजा के रूप में दावा करते हुए और सभी देशों के लिए एक ज्योति के रूप में प्रवेश

Read More

दिन 1: यीशु – जातियों की ज्योति

शब्द ‘लिंग’ संस्कृत के शब्द‘चिह्न’  या, ‘प्रतीक’  के अर्थ से निकल कर आता है, और लिंग शिव का सबसे अधिक मान्यता प्राप्त प्रतीक है। शिव

Read More

जीवन-मुक्ता, यीशु, मृतकों के पवित्र शहर की यात्रा करते हैं

बनारस सात पवित्र शहरों (सप्त पुरी) में सबसे पवित्र शहर है। यहाँ पर तीर्थ-यात्रा के लिए प्रतिवर्ष दस लाख से अधिक तीर्थयात्री आते हैं, इसका

Read More

‘सात’ के चक्र में ∶ मसीह का आना

पवित्र शब्द सात सात एक मंगलकारी सँख्या है, जो नियमित रूप से पवित्र के साथ जुड़ी हुई है। ध्यान दीजिए कि गोदावरी, यमुना, सिन्धु, सरस्वती,

Read More